March 5, 2024
dakshin bharat ka manchester

दक्षिण भारत का मैनचेस्टर किसे कहा जाता है ? – Dakshin Bharat Ka Manchester

ये हम आपको बता रहे है “दक्षिण भारत का मैनचेस्टर किसे कहा जाता है” (Dakshin Bharat Ka Manchester)

दक्षिण भारत का मैनचेस्टर – कोयंबटूर

दक्षिण भारत का मैनचेस्टर – कोयंबटूर को कहा जाता है।

कोयंबटूर, तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई के बाद राज्य का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। 19वीं शताब्दी में ब्रिटिश शासन के दौरान टेक्सटाइल उद्योग के केंद्र के रूप में विकसित होने के कारण कोयंबटूर को ‘दक्षिण भारत का मैनचेस्टर’ कहा जाता है। आज कोयंबटूर तमिलनाडु का एक प्रमुख औद्योगिक और व्यावसायिक केंद्र है।

Dakshin Bharat Ka Manchester
Photo by Spolyakov on Pexels.com

कोयंबटूर का इतिहास

16वीं शताब्दी में कोयंबटूर विजयनगर साम्राज्य का हिस्सा था। बाद में 18वीं शताब्दी में यह मैसूर के वोदेयर राजाओं के अधीन आ गया। ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने 18वीं शताब्दी के अंत में इस पर नियंत्रण हासिल कर लिया।

See also  शरीर के अंगो के नाम संस्कृत में पढ़िये | Sharir Ke Ango Ke Naam Sanskrit Mein | Body Parts Name

19वीं शताब्दी की शुरुआत में कोयंबटूर में सिर्फ एक छोटा सा गाँव था। 1806 में ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने यहाँ कपास और अन्य वस्तुओं के व्यापार के लिए एक व्यापारिक स्टेशन स्थापित किया।

यह भी पढ़े : आम खाने से होने वाले फायदे जाने

1821 में पहला कपास मिल खोला गया और धीरे-धीरे कोयंबटूर एक प्रमुख औद्योगिक केंद्र के रूप में उभरा। 1904 तक यहां कई कपास मिलें स्थापित हो चुकी थीं और ‘मिलों का शहर’ के रूप में कोयंबटूर की पहचान हो गई।

टेक्सटाइल उद्योग का विकास

19वीं शताब्दी के मध्य में कोयंबटूर में टेक्सटाइल उद्योग का विकास हुआ। कई कारणों से कोयंबटूर टेक्सटाइल उद्योग के लिए एक आदर्श स्थान था:

  • सस्ता श्रम बल की उपलब्धता
  • कपास की आसान उपलब्धता
  • अंग्रेजों द्वारा वित्तीय सहायता
  • परिवहन सुविधाएँ

जल्द ही कोयंबटूर में कई सरकारी मिलें स्थापित की गईं और यह देश का सबसे बड़ा टेक्सटाइल उत्पादन केंद्र बन गया। 1913 में कोयंबटूर में 62 मिलें स्थापित थीं जो लगभग 2.5 लाख लोगों को रोजगार प्रदान कर रही थीं।

See also  Brand Ambassador Kya Hota Hai: ब्रांड एम्बेसडर का मतलब क्या होता है

इस तरह टेक्सटाइल उद्योग के विकास के कारण ही कोयंबटूर की तुलना ब्रिटेन के औद्योगिक शहर मैनचेस्टर से की जाने लगी।

आधुनिक कोयंबटूर

आजादी के बाद कोयंबटूर ने अपना औद्योगिक वर्चस्व बनाए रखा है। टेक्सटाइल उद्योग अभी भी शहर की अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार है। इस शहर में आईटी और बीपीओ उद्योग भी तेजी से विकसित हो रहे हैं। शिक्षा और अनुसंधान के क्षेत्र में भी कोयंबटूर एक प्रमुख केंद्र बन गया है। आज इस शहर की जनसंख्या लगभग 10 लाख है। शहर की अर्थव्यवस्था, बुनियादी ढाँचे और जीवनस्तर के मामले में निरंतर विकास हो रहा है।

यह भी पढ़े : आम का आचार खाने से होने वाले फायदे जल्दी जाने

कोयंबटूर अब भी दक्षिण भारत के सबसे महत्वपूर्ण औद्योगिक और आर्थिक केंद्रों में से एक है, जिसकी वजह से इसे ‘दक्षिण भारत का मैनचेस्टर’ कहा जाता है।

कोयंबटूर की विशेषताएँ

  • देश का दूसरा सबसे बड़ा टेक्सटाइल उत्पादक
  • कपास टेक्सटाइल, सिल्क और सूती कपड़े का बड़ा निर्यातक
  • आईटी और बीपीओ उद्योगों का विकास
  • कई प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्थान
  • समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और परंपराएँ
  • प्रमुख पर्यटन स्थल
See also  अलसी की तासीर गर्म होती है या ठंडी - जानें कैसी होती है

निष्कर्ष

कोयंबटूर का विकास एक छोटे से गाँव से लेकर दक्षिण भारत के सबसे बड़े औद्योगिक नगरों में से एक तक हुआ है। 19वीं सदी में टेक्सटाइल उद्योग के विकास ने कोयंबटूर को ‘दक्षिण भारत का मैनचेस्टर’ बना दिया।

आज भी टेक्सटाइल और अन्य उद्योगों की वजह से कोयंबटूर तमिलनाडु और देश का एक अहम आर्थिक केंद्र बना हुआ है। शिक्षा, संस्कृति और पर्यटन के क्षेत्र में भी कोयंबटूर की अपनी पहचान है।