March 5, 2024
Shri Ram Chalisa pdf

श्री राम चालीसा | Shri Ram Chalisa Pdf Lyrics

श्री राम चालीसा (Shri Ram Chalisa) का पाठ करने से व्यक्ति की समस्त मनोकामनाये पूर्ण होती है और श्री हरी भक्ति प्राप्त होती है। श्री राम जी के भक्तो पर श्री बजरंगबली जी की कृपा भी सदा ही बनी रहती है।

Shri Ram Chalisa Pdf Lyrics Download करने का link नीचे उपलब्ध है।

श्री राम चालीसा | Shri Ram Chalisa Lyrics

श्री सियापति रामचंद्र जी की चालीसा के साथ ही श्री बजरंगबली चालीसा का पाठ करना और भी अच्छा रहता है।इन दोनों चालीसा का पाठ करने से बजरंगबली जी शीघ्र ही प्रसन्न होते है क्योंकि जहाँ श्री राम जी की भक्ति होती है वहाँ बजरंगबली जी स्वयं उपस्थित रहते है और भक्त की रक्षा करते है।

Sri Ram Chalisa Lyrics

|| चौपाई ||

श्री रघुवीर भक्त हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी॥
निशिदिन ध्यान धरै जो कोई। ता सम भक्त और नहिं होई॥1॥

ध्यान धरे शिवजी मन माहीं। ब्रह्म इन्द्र पार नहिं पाहीं॥
दूत तुम्हार वीर हनुमाना। जासु प्रभाव तिहूं पुर जाना॥2॥

तब भुज दण्ड प्रचण्ड कृपाला। रावण मारि सुरन प्रतिपाला॥
तुम अनाथ के नाथ गुंसाई। दीनन के हो सदा सहाई॥3॥

ब्रह्मादिक तव पारन पावैं। सदा ईश तुम्हरो यश गावैं॥
चारिउ वेद भरत हैं साखी। तुम भक्तन की लज्जा राखीं॥4॥

See also  जाने माँ दुर्गा चालीसा के फायदे : Benefits of Durga Chalisa Ke Fayde

गुण गावत शारद मन माहीं। सुरपति ताको पार न पाहीं॥
नाम तुम्हार लेत जो कोई। ता सम धन्य और नहिं होई॥5॥

Shri Ram Chalisa
श्री राम चालीसा

राम नाम है अपरम्पारा। चारिहु वेदन जाहि पुकारा॥
गणपति नाम तुम्हारो लीन्हो। तिनको प्रथम पूज्य तुम कीन्हो॥6॥

शेष रटत नित नाम तुम्हारा। महि को भार शीश पर धारा॥
फूल समान रहत सो भारा। पाव न कोऊ तुम्हरो पारा॥7॥

भरत नाम तुम्हरो उर धारो। तासों कबहुं न रण में हारो॥
नाम शक्षुहन हृदय प्रकाशा। सुमिरत होत शत्रु कर नाशा॥8॥

लखन तुम्हारे आज्ञाकारी। सदा करत सन्तन रखवारी॥
ताते रण जीते नहिं कोई। युद्घ जुरे यमहूं किन होई॥9॥

महालक्ष्मी धर अवतारा। सब विधि करत पाप को छारा॥
सीता राम पुनीता गायो। भुवनेश्वरी प्रभाव दिखायो॥10॥

घट सों प्रकट भई सो आई। जाको देखत चन्द्र लजाई॥
सो तुमरे नित पांव पलोटत। नवो निद्घि चरणन में लोटत॥11॥

सिद्घि अठारह मंगलकारी। सो तुम पर जावै बलिहारी॥
औरहु जो अनेक प्रभुताई। सो सीतापति तुमहिं बनाई॥12॥

इच्छा ते कोटिन संसारा। रचत न लागत पल की बारा॥
जो तुम्हे चरणन चित लावै। ताकी मुक्ति अवसि हो जावै॥13॥

See also  श्री इंद्र सहस्त्रनाम स्तोत्रं : Indra Sahasranama Stotram In Hindi Pdf

जय जय जय प्रभु ज्योति स्वरूपा। नर्गुण ब्रह्म अखण्ड अनूपा॥
सत्य सत्य जय सत्यव्रत स्वामी। सत्य सनातन अन्तर्यामी॥14॥

सत्य भजन तुम्हरो जो गावै। सो निश्चय चारों फल पावै॥
सत्य शपथ गौरीपति कीन्हीं। तुमने भक्तिहिं सब विधि दीन्हीं॥15॥

सुनहु राम तुम तात हमारे। तुमहिं भरत कुल पूज्य प्रचारे॥
तुमहिं देव कुल देव हमारे। तुम गुरु देव प्राण के प्यारे॥16॥

जो कुछ हो सो तुम ही राजा। जय जय जय प्रभु राखो लाजा॥
राम आत्मा पोषण हारे। जय जय दशरथ राज दुलारे॥17॥

ज्ञान हृदय दो ज्ञान स्वरूपा। नमो नमो जय जगपति भूपा॥
धन्य धन्य तुम धन्य प्रतापा। नाम तुम्हार हरत संतापा॥18॥

सत्य शुद्घ देवन मुख गाया। बजी दुन्दुभी शंख बजाया॥
सत्य सत्य तुम सत्य सनातन। तुम ही हो हमरे तन मन धन॥19॥

Sri Ram Chalisa Lyrics
Shri Ram Chalisa

याको पाठ करे जो कोई। ज्ञान प्रकट ताके उर होई॥
आवागमन मिटै तिहि केरा। सत्य वचन माने शिर मेरा॥20॥

और आस मन में जो होई। मनवांछित फल पावे सोई॥
तीनहुं काल ध्यान जो ल्यावै। तुलसी दल अरु फूल चढ़ावै॥21॥

साग पत्र सो भोग लगावै। सो नर सकल सिद्घता पावै॥
अन्त समय रघुबरपुर जाई। जहां जन्म हरि भक्त कहाई॥22॥

See also  देवी कामाख्या चालीसा : Maa Kamakhya Chalisa Pdf Lyrics

श्री हरिदास कहै अरु गावै। सो बैकुण्ठ धाम को पावै॥23॥

॥ दोहा॥

सात दिवस जो नेम कर, पाठ करे चित लाय।
हरिदास हरि कृपा से, अवसि भक्ति को पाय॥

राम चालीसा जो पढ़े, राम चरण चित लाय।
जो इच्छा मन में करै, सकल सिद्घ हो जाय॥

|| जय बोलो श्री सियापति रामचंद्र जी की जय ||

तो श्री राम चालीसा समाप्त हुई। इस Shri Ram Chalisa का पाठ करने से व्यक्ति को श्री हरी की भक्ति सहजता से प्राप्त हो जाती है।

Shri Ram Chalisa

Download Shri Ram Chalisa PDF

अभी Download करे श्री राम चालीसा पीडीएफ और जब पढ़ना चाहे तब पढ़े : Shri Ram Chalisa Pdf

यह भी पढ़े :

माता दुर्गा जी का दुर्गा अष्टोत्तर शतनाम स्तोत्र

माता मनसा देवी चालीसा पाठ

हल्दी के औषधीय गुणों से रोगो का इलाज